UGC NET RE-EXAM CANCELLED: तकनीकी समस्या के कारण यूजीसी नेट पुनः परीक्षा रद्द

 


तकनीकी समस्या के कारण यूजीसी नेट पुनः परीक्षा रद्द

तकनीकी समस्याओं के कारण Re-examination of UGC NET (National Eligibility Test) रद्द कर दी गई है। यह निर्णय परीक्षा के संचालन के दौरान आई अप्रत्याशित तकनीकी चुनौतियों के कारण लिया गया है, जिससे परीक्षा प्रक्रिया प्रभावित हुई।

UGC NET की परीक्षा का Organised by University Grants Commission(UGC) द्वारा किया जाता है, जो उच्च शिक्षा के क्षेत्र में प्रोफेसर, सहायक प्रोफेसर और जूनियर रिसर्च फेलोशिप (जेआरएफ) के लिए उम्मीदवारों की पात्रता को जांचता है। इस बार की पुनः परीक्षा उन उम्मीदवारों के लिए आयोजित की जा रही थी, जिन्होंने पहले की परीक्षा में तकनीकी समस्याओं का सामना किया था।

परीक्षा के दौरान सर्वर की समस्या, लॉगिन में कठिनाई और प्रश्न पत्र डाउनलोड करने में समस्याएं प्रमुख रूप से सामने आईं। इन समस्याओं के चलते कई उम्मीदवारों को परीक्षा देने में असुविधा हुई। तकनीकी समस्याओं के समाधान के लिए संबंधित प्राधिकरणों ने अपने स्तर पर प्रयास किए, लेकिन समस्याओं को तुरंत सुलझाया नहीं जा सका।

तकनीकी समस्या के कारण यूजीसी नेट पुनः परीक्षा रद्द

तकनीकी समस्याओं के चलते यूजीसी नेट (राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा) की पुनः परीक्षा रद्द कर दी गई है। सर्वर की समस्या, लॉगिन में कठिनाई और प्रश्न पत्र डाउनलोड करने में आई रुकावटों के कारण परीक्षा प्रक्रिया प्रभावित हुई। यूजीसी ने घोषणा की है कि नई परीक्षा तिथि और अन्य संबंधित जानकारी जल्द ही घोषित की जाएगी।

उम्मीदवारों की निराशा

परीक्षा रद्द होने के बाद उम्मीदवारों ने सोशल मीडिया पर अपनी निराशा व्यक्त की है। उन्होंने तकनीकी समस्याओं के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की और सुझाव दिया कि यूजीसी को भविष्य में बेहतर तकनीकी तैयारी करनी चाहिए। यूजीसी के अध्यक्ष ने आश्वासन दिया है कि भविष्य में ऐसी समस्याओं को रोकने के लिए आवश्यक कदम उठाए जाएंगे।

परीक्षा रद्द होने की सूचना जारी करते हुए यूजीसी ने कहा कि वे इस स्थिति से अवगत हैं और उम्मीदवारों के हितों की रक्षा के लिए हर संभव कदम उठाएंगे। यूजीसी ने यह भी कहा कि नई परीक्षा तिथि और अन्य संबंधित जानकारी जल्द ही घोषित की जाएगी।

उम्मीदवारों ने सोशल मीडिया पर अपनी निराशा व्यक्त की है और तकनीकी समस्याओं के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। कुछ उम्मीदवारों ने यह भी सुझाव दिया है कि यूजीसी को भविष्य में ऐसी समस्याओं से बचने के लिए बेहतर तकनीकी तैयारी करनी चाहिए।

यूजीसी के अध्यक्ष प्रो. एम. जगदीश कुमार ने कहा कि आयोग इस स्थिति से बेहद चिंतित है और उम्मीदवारों की समस्याओं को हल करने के लिए तत्पर है। उन्होंने विश्वास दिलाया कि भविष्य में ऐसी समस्याओं को रोकने के लिए आवश्यक कदम उठाए जाएंगे।

परीक्षा रद्द होने के बाद, उम्मीदवारों को सलाह दी गई है कि वे यूजीसी की आधिकारिक वेबसाइट पर नियमित रूप से नई जानकारी के लिए नजर रखें। यूजीसी द्वारा जारी किसी भी नई सूचना को तुरंत देखा और समझा जाना चाहिए ताकि उम्मीदवार भविष्य की परीक्षा के लिए तैयार रह सकें।

इसके अलावा, यूजीसी ने यह भी संकेत दिया है कि वह परीक्षा संचालन के लिए बेहतर तकनीकी सहायता प्राप्त करने के लिए अन्य संगठनों के साथ साझेदारी कर सकता है। इससे सुनिश्चित होगा कि भविष्य में किसी भी तकनीकी समस्या का सामना न करना पड़े।

पुनः परीक्षा की नई तिथि की घोषणा होते ही, उम्मीदवारों को तैयारी का एक और मौका मिलेगा। यूजीसी ने कहा कि वह परीक्षा की गुणवत्ता और निष्पक्षता सुनिश्चित करने के लिए हर संभव प्रयास करेगा।

इस घटनाक्रम ने यूजीसी और परीक्षा संचालन में शामिल अन्य संगठनों के लिए एक सीख का अवसर प्रदान किया है, जिससे वे भविष्य में बेहतर तैयारी और तकनीकी समर्थन की व्यवस्था कर सकें।

उम्मीद है कि यूजीसी इस अनुभव से सीख लेगा और भविष्य में उम्मीदवारों को किसी भी तकनीकी समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा। उम्मीदवारों को सलाह दी जाती है कि वे संयम बनाए रखें और परीक्षा की नई तिथि की प्रतीक्षा करें।<

Previous Post Next Post

फास्टर अप्डेट्स के लिए जुड़िये हमारे टेलीग्राम चैनल से - यहाँ क्लिक करिये
CLOSE ADVERTISEMENT